विंस्टन एस चर्चिल का मजेदार उद्धरण।