पाउलो कोएलो का अद्भुत प्रसिद्ध उद्धरण।